Poems

When I interviewed Kamini Agarwal in 2017, she said, “I want to see my poems in a book.” When elders share their bucket list with me, I feel excited at their zest for life. But it is even more exciting […]

{ 0 comments }

Read More...

Hindi poem by Pratibha Jain

  पीछे मुड़कर देखो तो ज़ाहिर है कि सबसे गहरा नाता तो ‘शब्द’ के साथ ही जोड़ा है. और कोई साथ रहे न रहे, शब्द तो रहता ही है. चाहने वाले नाराज़ हो सकते हैं, दोस्त वक्त पर गायब हो […]

{ 0 comments }

Read More...

Krishna Jayanthi

जहाँ मेघ हो, वहाँ मोर नाचेंगे जहाँ पुष्प हो, वहाँ भौरें मंडराएंगे जहाँ रस हो, वहाँ घुंघरू झूमेंगे जहाँ भक्ति हो, वहाँ भजन गूंजेंगे   जहाँ सागर हो, वहाँ सरिता बहेगी जहाँ प्रीत हो, वहाँ रास रचेगी जहाँ मिलन हो, […]

{ 0 comments }

Read More...

jeevan saagar

  सागर की लहरें अनगिनत मतवाली नखराली बाँवरी लहरें एक साथ बहती साथ ही उछलती मैं तट पर पलकें बिछाकर स्वागत में खड़ी बाट जोवती लहरें भी कूदती खिलखिलाती अपने ही सुर साज में मटकती मुझे छूकर छेड़कर लौट जाती […]

{ 0 comments }

Read More...